उसे याद किया…. (Use Yaad Kiya…)

Click on the link to Read Shayari – उसे याद किया…. (Use Yaad Kiya…)

For More Hindi Shayari-

  1. शायर का इज़हार… (Shayar ka Izhaar…)
  2. वो गिरती बूंद मोती की… ( Vo Girti Boond Moti Ki…)
  3. #567. उसकी बेवफाई…( Uski Bewafai…)
  4. #354. पलकें ख़ुशी और गम में भीगी थीं।।
  5. #338. साहब ये लोकतंत्र है।।
  6. #561. लड़की हो, पर्दे में रहना सीखो…

               Doston Dil Ki Kitaab अब WordPress.com से Migrate कर दिया है…..

अब हर शायरी का link इस blog पर शेयर किया करूंगा…..

उम्मीद है की आप साथ देंगे….

 

Advertisements

शायर का इज़हार… (Shayar ka Izhaar…)

Click here to read shayri- शायर का इज़हार… (Shayar ka Izhaar…)

For More Hindi Shayari-

  1. शायर का इज़हार… (Shayar ka Izhaar…)
  2. वो गिरती बूंद मोती की… ( Vo Girti Boond Moti Ki…)
  3. #567. उसकी बेवफाई…( Uski Bewafai…)
  4. #354. पलकें ख़ुशी और गम में भीगी थीं।।
  5. #338. साहब ये लोकतंत्र है।।
  6. #561. लड़की हो, पर्दे में रहना सीखो…

Doston Dil Ki Kitaab अब WordPress.com से Migrate कर दिया है…..

अब हर शायरी का link इस blog पर शेयर किया करूंगा…..

उम्मीद है की आप साथ देंगे….

 

वो गिरती बूंद मोती की… ( Vo Girti Boond Moti Ki…)



वो गिरती बूंद मोती की तेरी आँखों से,

चूम ले जाऊं मैं।

कमबख्त ये ज़माना देख रहा है,

वर्ना तुझे सीने से लगाऊँ मैं।।

click here for hinglish font
 

mयंक

Click here to like Dil Ki Kitaab on f.b

More Post Related to Bewafai

1. वो बेवफा नहीं… ( Vo Bewafa Nahi..)
2. बेवफा (Bewafaa)…

3. Bewafa vo nikle…

4. वो बेवफा निकला ॥

5. Aajkoi loot le gya mehkhaane ko

6. उसकी बेवफाई…( Uski Bewafai…)

 

#567. उसकी बेवफाई…( Uski Bewafai…)

उसकी बेवफाई का किस्से लिखना इतना आसान कँहा है।

कितनी कलम तोड़ी है,

कितने पन्ने जलाएं हैं,

तब जाकर हम इस मुकाम पर आए है।।

 

Uski Bewafai ka kissa likhna itna Aasan kanha hai.
Kitni Kalam todi hai,
Kitne Panne jalaein hain,
Tab jaakar hum is Pukaam par aae hai..

                                                       ~mयंक


More Post Related to Bewafai…
1. वो बेवफा नहीं… ( Vo Bewafa Nahi..)
2. बेवफा (Bewafaa)…

3. Bewafa vo nikle…

4. वो बेवफा निकला ॥

5. Aajkoi loot le gya mehkhaane ko

~~~~~~ click here to Like Dil Ki Kitaab on f.b 🙂 ~~~~~~

#354. पलकें ख़ुशी और गम में भीगी थीं।।

Click Here to read Full Story : #354. पलकें ख़ुशी और गम में भीगी थीं।।

 

 

#566. चलो कड़ी निंदा करते है…. (Chalo Kadi Ninda Karte hai).)

ऐसा नहीं है कि हमारे देश के नेता कुछ कर नहीं सकते है,

पर क्या करे वो कड़ी निंदा करने में विश्वाश रखते है।।

 

वो है देश के सैनिक, उनका काम है मरना, 

वो कोनसा हमपर कोई एहसान करते है।

हम हैं देश के राजनेता, हम अपना काम करते है।

थोड़ा तीखे शब्दों में, चलो कड़ी निंदा करते हैं।।

Vo hai desh ke sainik, unka kaam hai marna,
Vo kaunsa hum par koi Ehsaan karte hai..
Ham hain desh ke RaajNeta, hum apna kaam karte hai.
Thodaa teekhe Shabdon mein, chalo Kadi Ninda karte hain…

                                                                                                                 –mयंक  

. . . .. . . . . . . . ..

राजनीती पर के कुछ सच ये भी-
1- साहब ये लोकतंत्र है।।

2- राजनीती की रोटी…

3- राजनीती में…

——————————————————————————————————————————
Click Here to Like Dil Ki Kitaab on f.b 🙂

#565. जब वो सामने से गुज़रे…

खुदा मेरे दिल को बस इतना मज़बूत कर दे,

की वो सामने से गुज़रे

और मुझे कोई फर्क न पड़े।।

🖋mयंक

#564. तेरी ख़ामोशी… (Teri Khamoshi…)

सब कुछ कह गई तेरी ख़ामोशी।

पर मेरी नम आँखों से तुझे कुछ पता ना चला।।
Sab kuch kehe gai teri Khamoshi,

Par Meri Nam Aankhon se tujhe kuch pta na chala.

-mयंक

#563. खारा पानी…( Khaata Paani…)

​Socha na tha ki meri Mohabbat ka Hashra (result) aisa hoga.



Jo shuru hui Chehre par Muskaan se,

Us Kahani ka ant (end) Aankhon me Khaare Paani se hoga.


सोचा न था कि मेरी मोहब्बत का ऐसा हश्र होगा।

जो शुरू हुई चेहरे पर मुस्कान से,

उस कहानी का अंत आँखों में खारे पानी से होगा।।

💁mयंक

#560. भीगा पल्लू…. ( Bheega Pallu…)

Tujhe Chodne ke peeche uski koi Majboori rahi hogi “mayank“,

Maine uske Pallu ka Sira Bheega dekha…

————————————————————————-

तुझे छोड़ने के पीछे उसकी कोई मजबूरी रही होगी “मयंक”,

मैंने उसके पल्लू का सिरा भीगा देखा।।

💁mयंक


Click Here to like Dil Ki Kitaab on f.b 🙂