#567. उसकी बेवफाई…( Uski Bewafai…)

उसकी बेवफाई का किस्से लिखना इतना आसान कँहा है।

कितनी कलम तोड़ी है,

कितने पन्ने जलाएं हैं,

तब जाकर हम इस मुकाम पर आए है।।

 

Uski Bewafai ka kissa likhna itna Aasan kanha hai.
Kitni Kalam todi hai,
Kitne Panne jalaein hain,
Tab jaakar hum is Pukaam par aae hai..

                                                       ~mयंक


More Post Related to Bewafai…
1. वो बेवफा नहीं… ( Vo Bewafa Nahi..)
2. बेवफा (Bewafaa)…

3. Bewafa vo nikle…

4. वो बेवफा निकला ॥

5. Aajkoi loot le gya mehkhaane ko

~~~~~~ click here to Like Dil Ki Kitaab on f.b 🙂 ~~~~~~

#566. चलो कड़ी निंदा करते है…. (Chalo Kadi Ninda Karte hai).)

ऐसा नहीं है कि हमारे देश के नेता कुछ कर नहीं सकते है,

पर क्या करे वो कड़ी निंदा करने में विश्वाश रखते है।।

 

वो है देश के सैनिक, उनका काम है मरना, 

वो कोनसा हमपर कोई एहसान करते है।

हम हैं देश के राजनेता, हम अपना काम करते है।

थोड़ा तीखे शब्दों में, चलो कड़ी निंदा करते हैं।।

Vo hai desh ke sainik, unka kaam hai marna,
Vo kaunsa hum par koi Ehsaan karte hai..
Ham hain desh ke RaajNeta, hum apna kaam karte hai.
Thodaa teekhe Shabdon mein, chalo Kadi Ninda karte hain…

                                                                                                                 –mयंक  

. . . .. . . . . . . . ..

राजनीती पर के कुछ सच ये भी-
1- साहब ये लोकतंत्र है।।

2- राजनीती की रोटी…

3- राजनीती में…

——————————————————————————————————————————
Click Here to Like Dil Ki Kitaab on f.b 🙂

#560. भीगा पल्लू…. ( Bheega Pallu…)

Tujhe Chodne ke peeche uski koi Majboori rahi hogi “mayank“,

Maine uske Pallu ka Sira Bheega dekha…

————————————————————————-

तुझे छोड़ने के पीछे उसकी कोई मजबूरी रही होगी “मयंक”,

मैंने उसके पल्लू का सिरा भीगा देखा।।

💁mयंक


Click Here to like Dil Ki Kitaab on f.b 🙂


#560. काफिये से काफिया जोड़ने वाले…

अच्छा लिखने वाले नही।

काफिये से काफिया जोड़ने वाले,

अक्सर खुद को शायर समझ बैठते है।।

💁mयंक

काफिया – Rhyme

#559. वक़्त को वक़्त की नज़र लगे…

कभी वक़्त को वक़्त की नजर लगे,

वक़्त अपनी डगर से जा भटके।

चलता है ये बिना रुके,

मेरी दुआ है कभी ये इतवार पर जा अटके।।

🤔mयंक

#558. दिल के अरमान तब टूटे…

दिल में बस एक ख्याल था,

वो पलटे,

मेरी ओर बढ़े,

मेरा हाथ थामें,

और कहे,

क्यों न दो से एक हो जाये,

दुनियादारी भूल आ गले लग जाए।।

पानी जैसे शांत मन्न में भूचाल सा आजाता,

गर उसकी ज़ुबाँ पर मेरा नाम आता।।

वो पलटी ज़रूर,

वो मेरी ओर बढ़ी,

मेरी धड़कने बढ़ी,

जब उसकी निगाह मुझसे लड़ी।

पर उस दिन एहसास हुआ,

की किसी अंजान पे दिल मत लगाना।

मेरे दिल के अरमान तब टूटे,

जब उसने कहा “भैया” ज़रा ये पता बताना।।

😂mयंक

————————-

हर कहानी का अंत मोहब्बत भरा नहीं होता , कभी कभी मज़ाकिया भी होता है😁😁😁😁😁

#557. ख़ुशी दो पल की…(Khushi Do Pal Ki…)

दो पल ही सही,

वो करीब तो बैठी थी।

दो पल ही सही,

उसकी वो हसीन मुस्कान तसल्ली से तो देखि थी।।

😄mयंक

—–—————————

Click Here to like Dil Ki Kitaab on f.b 😊

#555. वक़्त की रेत… ( Waqt ki Ret..)

वक़्त-वक़्त की बात है,

जब बीत जाता है वक़्त तब बड़ा याद आता है।

और जब वक़्त होता है, तब उसकी क़द्र नी होती है।।

❤ mयंक

#554. चलो-चले दुनिया की नजरों से दूर….

दुनिया की नज़रों से छिपकर,

किसी अंजान सफर पर तू और मैं निकले,

रात 3 बजे किसी ढ़ाबे पर बस जा रुके।।

सर्द रात हो,

मेरे हाथों में तेरा हाथ हो,

कुल्हड़ में चाय हो,

तेरी निगाहों से निगाह टकराई हो।।

गप-शप हो जमकर,

बस तुझे देखता रहूँ साँसे थामकर।।

फिर तू मुस्कुराए,

और बोले- अच्छी बनी है चाय।

हवा चले सरर से,

और तू ठिठुर जाए।।

तू बोले- ठण्ड लग रही है,

चलो बस में वापस चला जाए।।

😏mयंक

#543. वो मुझे छोड़ गया…. (Vo mujhe Chod gya..)

​हर रिश्ता कामियाब हो जरुरी नहीं है, आपको सच्चा प्यार हो सकता है, पर जरुरी नहीं की आपको कोई सच्चा प्यार करने वाला मिले। और अगर कोई सच्चा प्यार करने वाला मिल भी जाए तो किसी न किसी की इस प्यारे रिश्ते पर नज़र लग ही जाती है और वो जो कल तक दिल में बस था आज दिल से दिन बताये चला जाता है। पर वो अपनी निशानी इस दिल के हर कोने में छोड़कर जाता है।।

कभी मज़बूरी होती है छोड़ देने की, कभी कोई और रुकावट आती है।

जब सब कुछ अच्छा हो तो, ये कुंडली टांग अड़ाती है।।

हम सबको मनाते है,

अपने रिश्ते की कीमत समझाते है।

पर अक्सर ऐसा होता है,

की किसी गलतफहमी का ठिकाना उसके दिल में होता है।।

ये गलतफहमियां ये शक दीमक की तरह होते है,

इसका खामियाजा रिश्तों के बने घर ढोते है।।

****

कुछ कहानियाँ है जो आप लोगों के साथ Share करूँगा, बस आप लोग हमेशा मेरा साथ देना ।😊😊

(Please Note- ये मेरी कहानी नहीं है 😋😋 )

—————————–

एक कसक है,

क्या आज भी मुझे कुछ कहने का हक़ है।

छोड़ गई तू मुझे किसी गलतफहमी में,

या आज भी तुझे मुझपर शक है।।


Ek Kasak hai,

Kya Aaj bhi mujhe kuch kahne ka Huq hai..?

Chod gai tu Mujhe kisi Galatfehmi me,

Ya Aaj bhi Tujhe mujhpr Shaq hai…

💝mयंक💝

Click here to like Dil Ki Kitaab on f.b