#338. साहब ये लोकतंत्र है।।

 

साहब ये लोकतंत्र है।।
एक-दुसरे पर कीचड उछालना इसका मूलमंत्र है॥
धोखा देना इनका प्रमुख काम है।
कुछ भी हो, पर लगती नही इनकी ज़िभिया पर लगाम है॥
सड़क हो या चारा, करना इन्होने गबन है।
लाख हों चाहे हो करोड़, पर भरता नहीं इनका मन्न है॥
पेट है इनका समुन्द्र के भाँती।
इनकी कितनी भी बेइज्जती करो, इन्हें कभी शर्म नही आती॥
साहब ये लोकतंत्र है।।
एक-दुसरे पर कीचड उछालना इसका मूलमंत्र है॥
अपनी साख को खोकर, ये दल बदल लेता है।
इस दुनिया में पैसा ही इनका सिर्फ धर्म पिता है॥
पैंसे को काला करने का हुनर इनको आता है।
सिर्फ यही काम तो है जो इन्हें भाता है॥
कथनी और करनी में अन्तर का उदहारण इनसे अच्छा क्या होगा।
इनके भाषण सुनो तो तुम्हे ज्ञात होगा की इनसे ज्यादा दुःख किसी ने नही भोगा॥
साहब ये…. Click here to Read full story. Source: #338. साहब ये लोकतंत्र है।।

mयंक

Click here to like Dil Ki Kitaab on f.b

More Post Related to Politics/Rajneeti

  1. राजनीती में…
  2. चलो कड़ी निंदा करते है…. (Chalo Kadi Ninda Karte hai).)
  3. ATM खाली मनाओ दिवाली… ( ATM khali mnao Diwali..)
  4. राजनीती की रोटी

 

 


Advertisements

6 thoughts on “#338. साहब ये लोकतंत्र है।।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s