#566. चलो कड़ी निंदा करते है…. (Chalo Kadi Ninda Karte hai).)

ऐसा नहीं है कि हमारे देश के नेता कुछ कर नहीं सकते है,

पर क्या करे वो कड़ी निंदा करने में विश्वाश रखते है।।

 

वो है देश के सैनिक, उनका काम है मरना, 

वो कोनसा हमपर कोई एहसान करते है।

हम हैं देश के राजनेता, हम अपना काम करते है।

थोड़ा तीखे शब्दों में, चलो कड़ी निंदा करते हैं।।

Vo hai desh ke sainik, unka kaam hai marna,
Vo kaunsa hum par koi Ehsaan karte hai..
Ham hain desh ke RaajNeta, hum apna kaam karte hai.
Thodaa teekhe Shabdon mein, chalo Kadi Ninda karte hain…

                                                                                                                 –mयंक  

. . . .. . . . . . . . ..

राजनीती पर के कुछ सच ये भी-
1- साहब ये लोकतंत्र है।।

2- राजनीती की रोटी…

3- राजनीती में…

——————————————————————————————————————————
Click Here to Like Dil Ki Kitaab on f.b 🙂

Advertisements

5 thoughts on “#566. चलो कड़ी निंदा करते है…. (Chalo Kadi Ninda Karte hai).)

  1. सही कहा ये सबकुछ कर सकते हैं——-परंतु राजतंत्र से लोकतंत्र तक एक ही बात का रोना है——आखिर ये कब करेंगे?

    Liked by 1 person

    • ये आज का काम कल पर टालेंगे।
      पर सत्य ये है,
      की काम ये ना आज करेंगे और ना कल करेंगे।।

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s